india vs pakistan

भारत में आतंकियों की घुसपैठ के लिए अब बच्चों की मदद ले रहा पाकिस्तान

Quote Posted on

loc_bsf_1494042930_749x421

जम्मू कश्मीर में गड़बड़ी फैलाने के मकसद से आतंकियों की घुसपैठ कराने के लिए पाकिस्तान रोज नए तरीके अपना रहा है. पाकिस्तान ने अब घुसपैठ से पहले इलाके का जायजा (रेकी) लेने के लिए नाबालिग लड़कों का इस्तेमाल कर रहा है. जम्मू के राजौरी स्थित नौशेरा सेक्टर में सुरक्षाबलों ने नियंत्रण रेखा के पास एक ऐसे ही एक किशोर को गिरफ्तार किया है.

रक्षा विभाग के प्रवक्ता लेफ्टिनेट कर्नल मनीष मेहता ने इसकी गिरफ्तारी की जानकारी देते हुए बताया कि भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा के पास गश्त के दौरान 12 साल के एक घुसपैठिये को पकड़ा. अशफाक अली चौहान नाम का यह किशोर बुधवार देर शाम नियंत्रण रेखा पार कर रजौरी सेक्टर के नौशेरा सेक्टर घुसा था.

उन्होंने बताया कि अशफाक नियंत्रण रेखा के आसपास घूम रहा था. उसकी हरकतों को लेकर शक होने पर गश्ती दल ने उससे रोककर पूछताछ की, तो उसने तुरंत सरेंडर कर दिया.

सैन्य प्रवक्ता के मुताबिक, अशफाक ने पूछताछ में बताया कि वह बलूच रेजिमेंट के रिटायर्ड सैनिक हुसैन मलिक का बेटा है. उसका पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भीमबेर जिले के समानी तहसील स्थित डुंगर पेल गांव का निवासी है. उन्होंने कहा, ‘ऐसी आशंका है कि आंतकियों ने पाकिस्तानी सेना की मदद से उस लड़के को नियंत्रण रेखा पार कराया, जिससे कि वह घुसपैठ के लिए आसान रास्तों की निशानदेही कर सके.’

सेना ने अब इस पाकिस्तानी किशोर को आगे की जांच के लिए पुलिस के हवाले कर दिया है. यहां बता दें कि पाकिस्तान का भीमबेर ही वह जगह है, जहां पिछले साल भारतीय सेना ने आतंकियों के लॉन्च पैड पर सर्जिकल स्ट्राइक किया था.

सार्क सैटेलाइट प्रोजेक्ट पर PAK ने बदला बयान, कहा- भारत ने साथ नहीं रखा

Quote Posted on Updated on

gsat_1494037289_749x421

पाकिस्तान ने सार्क सैटेलाइट प्रोजेक्ट से खुद को अलग किए जाने के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि नई दिल्ली सभी के सहयोग से उपक्रम विकसित करने का इच्छुक नहीं है. इससे पहले पाक ने यह कहते हुए खुद को इस प्रोजेक्ट से अलग कर लिया था कि उसका अपना अंतरिक्ष कार्यक्रम है. वहीं, दूसरी तरफ, बांग्लादेश ने कहा कि भारत के इस कदम से विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ेगा.

पाकिस्तान ने यह दावा उस वक्त किया है, जब भारत ने पड़ोसी देशों के संचार एवं आपदा संबंधी सहयोग देने के मकसद से दक्षिण एशिया उपग्र ह का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया है. पाकिस्तानी विदेश विभाग के प्रवक्ता नफीस जकरिया ने कहा कि 18वें सार्क शिखर बैठक के दौरान भारत ने सदस्य देशों को सार्क सैटेलाइट का तोहफा देने की पेशकश की थी.

बहरहाल, भारत ने यह स्पष्ट कर दिया था कि वह इसका अकेले निर्माण करेगा, प्रक्षेपण करेगा और संचालन भी करेगा. उधर, बांग्लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा कि दक्षिण एशिया उपग्रह के प्रक्षेपण के बाद बांग्लादेश और भारत के जल, थल और वायु में सहयोग का विस्तार हुआ है.

हसीना ने कहा, ‘मेरा यह मानना है कि दक्षिण एशियाई क्षेत्र के लोगों की भलाई यहां के देशों के बीच सहयोग के कई क्षेत्रों में सार्थक संपर्क पर निर्भर करता है.’ मालूम हो कि शुक्रवार को भारत ने सार्क देशों के बीच संचार और संपर्क को बढ़ावा देने के लिए दक्षिण एशिया सैटेलाइट जीसैट-9 को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से लॉन्च किया.

इस सैटेलाइट को इसरो ने बनाया है. इस कामयाबी के बाद सार्क देशों के 6 राष्ट्राध्यक्षों ने एक साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दुनिया को संदेश दिया. इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि जीसैट-9 से भारत, बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका, अफगानिस्तान, भूटान और मालदीव को फायदा होगा. इससे अंतरिक्ष में दक्षिण एशिया की ताकत बढ़ेगी.

इसे भी पढ़िएः 450 करोड़ की लागत से बने SAARC सैटेलाइट की 10 खास बातें

ऐसे सार्क सैटेलाइट प्रोजेक्ट से बाहर हुआ पाक
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब सार्क सैटेलाइट का आइडिया पड़ोसी देशों के समक्ष रखा. उस समय पाकिस्तान ने इस कदम का स्वागत किया. प्रधानमंत्री के विचार पर जोश भरी प्रतिक्रिया देते हुए नई दिल्ली में पाकिस्तान के उच्चायुक्त ने कहा कि उनका देश इस प्रस्ताव पर रचनात्मक सुझाव देगा. हालांकि कुछ दिन बाद ही पाकिस्तान ने इस प्रोजेक्ट में साझीदार बनने की बात कही. पाकिस्तान ने इस पर जोर दिया कि उसे इसरो की टेक्निकल टीम का हिस्सा बनाया जाए. साथ ही उसने भारत के साथ इस प्रोजेक्ट का खर्च उठाने का भी प्रस्ताव रखा, जिसे भारत ने खारिज कर दिया. इसके बाद पाकिस्तान ने मांग रखी कि सैटेलाइट का कंट्रोल का सार्क देशों को दिया जाए न कि सिर्फ इसरो के पास रहे. यही नहीं पाकिस्तान ने फिर सुरक्षा का मुद्दा उठाना शुरू कर दिया, जिसे भारत ने खारिज कर दिया. इसके बाद पाकिस्तान ने इस प्रोजेक्ट से खुद को अलग कर लिया. उनकी दलील थी कि उनके पास अपना अंतरिक्ष कार्यक्रम है.

12 साल है जीसैट-9 की लाइफटाइम
जीसैट को चेन्नई से करीब 135 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के दूसरे लांचिंग पैड से लांच किया गया. इसरो ने बताया कि जीसैट-9 मिशन का लाइफटाइम 12 साल का है.

PM मोदी की स्पेस डिप्लोमेसी

मई 2014 में सत्ता में आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो के वैज्ञानिकों से सार्क सैटेलाइट बनाने के लिए कहा था, जो पड़ोसी देशों को भारत की ओर से उपहार है. साथ ही चीन के प्रभाव को क्षेत्र में कम किया जा सकेगा. बीते रविवार को मन की बात कार्यक्रम में मोदी ने घोषणा की थी कि दक्षिण एशिया उपग्रह अपने पड़ोसी देशों को भारत की ओर से कीमती उपहार होगा. मोदी ने कहा था, ‘पांच मई को भारत दक्षिण एशिया उपग्रह का प्रक्षेपण करेगा. इस परियोजना में भाग लेने वाले देशों की विकासात्मक जरुरतों को पूरा करने में इस उपग्रह के फायदे लंबा रास्ता तय करेंगे.

PAK के मंसूबों पर सेना की पैनी नजर, BAT से निपटने को बनाई खास रणनीति

Quote Posted on

indian_army_1493782532_749x421

जम्मू कश्मीर में हालिया आतंकी हमलों के बाद भविष्य में ऐसे हमले रोकने के लिए भारतीय सेना ने नई रणनीति बनाई है. सेना का खास जोर आतंकियों की घुसपैठ रोकने पर है और इसके लिए पाकिस्तानी सीमा से सटे घाटी के कुछ खास इलाकों में जवानों की तैनाती में बढ़ाने जा रहा है.

आजतक को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, आतंकी इन दिनों घुसपैठ के लिए 8 नए रास्ते अपना रहे हैं, जिसमें कश्मीर के महादेव से कालाकोट, कोतकोटेरा से काला कोटे और निकैल से मंजी कोटे का रास्ता प्रमुख रूप से निशानदेही पर है. सेना के शीर्ष सूत्रों के मुताबिक, आतंकियों की घुसपैठ रोकने के लिए सैनिकों की टुकड़ी को पीर पंजाल के दक्षिणी इलाकों से घाटी और दूसरे इलाकों की तरफ भेजा जा रहा है.

हाल के महीनों में पाकिस्तानी सेना की बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) की चार कार्रवाइयों को सेना ने नाकाम किया है. BAT से निपटने के लिए सेना ने अब नई योजना बनाई है और उसके नापाक मंसूबों को नाकाम करने के लिए सेना ने स्थानीय कमांडरों को खास निर्देश जारी किए हैं.

बता दें कि पाकिस्तानी सेना ने इसी हफ्ते सोमवार को जम्मू कश्मीर में मेंढर सेक्टर में भारी गोलीबारी कर भारतीय सेना के दो जवानों को शहीद कर दिया था. इस गोलीबारी की वजह से वहां काफी धुआं फैल गया था और इसी का फायदा उठा कर पाकिस्तानी सेना के मुजाहिद लड़ाकों ने भारतीय सीमा में घुसकर भारतीय जवानों के शव क्षत-विक्षत कर दिए.

सेना को मिली खुफिया जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान से सटी नियंत्रण रेखा (LoC)के पार उसके कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में 4-5 कैंप सक्रीय हैं. खुफिया सूत्रों के मुताबिक, नियंत्रण रेखा से 10-15 किलोमीटर अंदर स्थित इन कैंपों में पाक सेना की स्पेशल सर्विस ग्रुप (एसएसजी) ने पिछले महीने बैट टीम को ट्रेनिंग दी थी.

सूत्रों के मुताबिक, भारतीय सेना के DGMO लेफ्टिनेंट जनरल एके भट्ट ने हॉटलाइन पर अपने पाकिस्तानी समकक्ष मेजर जनरल शाहिर शमशाद ने बात की और उनसे PoK में चल रही इन BAT कैंप को तत्काल बंद करने को कहा है. उन्होंने चेतावनी दी कि अगर पाकिस्तानी सेना ने इन कैंपों को तुरंत बंद नहीं किया तो उसे इसके नतीजे भुगतने होंगे .

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को  instantaajtak ने संपादित नहीं किया है, यह aajtakफीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

इंडियन आर्मी ने 7 PAK सैनिक मारे, 2 चौकियां तबाह, अब सर्जिकल स्ट्राइक-2 की मांग

Quote Posted on

indian_army_760_1493693712_749x421

एलओसी पर पाकिस्तान के हमले का भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया है. सेना ने पाक सेना की उन चौकियों को ध्वस्त कर दिया है जहां घुसपैठियों को कवर दिया गया था. पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम ने सीजफायर का उल्लंघन करते हुए सोमवार सुबह रॉकेट लॉन्चर से भारत पर हमला किया था. जिसमें दो जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद देर शाम भारत ने पाकिस्तान को उसके ही अंदाज में जवाब दिया.

भारतीय सेना पर हमले के बाद सेना और रक्षा मंत्री ने साफ कर दिया था कि पाकिस्तान की ये हरकत बर्दाश्त नहीं की जाएगी. सेना ने अपने बयान में कहा था, ‘1 मई 2017 को कृष्‍णा घाटी सेक्‍टर में नियंत्रण रेखा के पास दो फॉरवर्ड पोस्‍ट्स पर पाकिस्‍तानी सेना की ओर से रॉकेट और मोर्टार से फायरिंग की गई. साथ ही दो पोस्‍ट्स के बीच पैट्रोल ऑपरेटिंग पर बैट एक्‍शन भी किया गया. पाकिस्‍तानी सेना ने कायरानापूर्ण रवैया दिखाते हुए हमारे दो जवानों के शवों को क्षत-विक्षत कर दिया. पाकिस्‍तानी सेना की ऐसी नृशंस हरकत का जल्‍द ही उचित जवाब दिया जाएगा.’

तस्वीरों में देखें… कैसे अपनी जान पर खेल कर कुछ इस तरह LOC की रक्षा करते हैं हमारे जवान…

सेना के इस बयान के बाद रक्षा मंत्री ने भी उन्हें समर्थन दिया. रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने दो टूक कहा कि सेना के जवानों की ये शहादत बेकार नहीं जाने दी जाएगी. हमारी सेना इस एक्शन का माकूल जवाब देने में सक्षम है.

सेना और रक्षा मंत्री के इन बयानों के बाद सोमवार शाम ही भारतीय सेना के जवानों ने अपना एक्शन दिखा दिया. बताया जा रहा है कि एलओसी के पार पाकिस्तान की कई चौकियों को भारतीय सेना ने ध्वस्त कर दिया. साथ ही इस जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तानी सेना के 7 जवानों को भी ढेर कर दिया.

यहां हुआ पाकिस्तान पर हमला
सूत्रों के मुताबिक किरपान और पिंपल पोस्ट में दो पाकिस्तानी बंकरों को ध्वस्त किया गया. ये दोनों पोस्ट जम्मू के मेंढर सेक्टर में मौजूद कृष्णा घाटी के सामने है. बताया जा रहा है कि पाक की बॉर्डर एक्शन टीम की 647 मुजाहिद बटालियन ने एलओसी पर हुए हमले को अंजाम दिया था. बटालियन के सदस्यों को घुसपैठ के लिए पाक आर्मी की ओर से किरपान और पिंपल पोस्ट से कवर फायरिंग की गई थी.

सेना को फ्री हैंड!
भारतीय सेना प्रमुख कर्नल बिपिन रावत हालात का जायजा लेने के लिए श्रीनगर में मौजूद हैं. बताया जा रहा है कि सेना को पाकिस्तान की हरकत का जवाब देने के लिए सरकार ने फ्री हैंड दिया है.

एक और सर्जिकल स्ट्राइक!
पाकिस्तान की इस हरकत के बाद देश में एक बार फिर सर्जिकल स्ट्राइक की मांग उठने लगी है. पूर्व आर्मी कर्मियों से लेकर तमाम संगठनों के लोग मोदी सरकार से सर्जिकल स्ट्राइक कर पाकिस्तान को कड़ा जवाब देने की मांग कर रहे हैं.

भारतीय हैकर्स का पलटवार, पाकिस्तान पीपल्स पार्टी समेत 500 से ज्यादा वेबसाइट हैक

Quote Posted on

indian_hackers_760_1493142505_749x421

aajtak.in [Edited By: मुन्ज़िर अहमद]

aajtak.in [Edited By: मुन्ज़िर अहमद]

नई दिल्ली, 26 अप्रैल 2017, अपडेटेड 12:33

 कथित भारतीय हैकर्स ने पाकिस्तान की 500 से ज्यादा वेबसाइट हैक कीं. भारतीय हैकर्स ने रैंजमवेयर के जरिए पाकिस्तान की वेबसाइट हैक कीं. हैकर्स ने पाकिस्तान की ‘पाकिस्तान पीपल्स पार्टी’ की वेबसाइट भी हैक करने का दावा किया है. इससे कुछ घंटे पहले ही पाकिस्तानी हैकर्स ने भारत की टॉप यूनिवर्सिटी के अकाउंट हैक किए थे.

भारत के कथित हैकर ग्रुप ने पाकिस्तान की 500 से ज्यादा वेबसाइट्स हैक करने का दावा किया है. इनमें वो वेबसाइट्स भी शामिल हैं जो HTTPS से सिक्योर हैं.

हैक की गईं वेबसाइट्स में से ज्यादातर वेबसाइट पाकिस्तान सरकार के अधीन आती हैं. दावा किया गया है कि टीम इंडियन ब्लैक हैट नाम के एक ग्रुप ने हैकिंग को अंजाम दिया. हालांकि हैक्ड वेबसाइट के होम पेज पर टीम केरला साइबर वॉरियर्स लिखा हुआ है.

‘पाकिस्तान पीपल्स पार्टी’ की वेबसाइट भी हैक
हैकर्स ने पाकिस्तान की ‘पाकिस्तान पीपल्स पार्टी’ की वेबसाइट भी हैक करने का दावा किया है. इन वेबसाइट में वहां के सरकारी शिक्षण वेबसाइट्स भी शामिल हैं. इसके अलावा ट्रेड वेबसाइट्स और रुरल डेवेलपमेंट वेबसाइट्स भी शामिल हैं.

हमने हैकर ग्रुप से बात की तो उन्होंने बताया है कि ये सिर्फ एक ग्रुप ने नहीं किया है बल्कि कई ग्रुप ने मिलकर किया है. इसमें Luzsecind, team black hats और United Indian hackers जैसे ग्रुप्स शामिल हैं. इनका कहना है कि आने वाले समय में वहां कि और भी वेबसाइट्स को हैक किया जाएगा.

ये कोई आम हैकिंग नहीं है. बल्कि इन्होंने रैंजमवेयर का इस्तेमाल किया है. रैंजमवेयर का मतलब वेबसाइट को हैकर के कब्जे से छुड़ाने के लिए पैसे देने होते हैं. इसके लिए वेबसाइट पर हैकर्स के फेसबुक पेज की डीटेल्स हैं जहां से वो पैसे के लेन देन की बात करेंगे.

हैक की गई वेबसाइट को देखकर लगता है कि केरल साइबर वॉरियर ने किया है. यहां एक बॉक्स है जिसमें Key डालने को कहा जा रहा है. आम तौर पर हैकर रैंजम मनी लेने के बाद एक Key देते हैं जिससे वेबसाइट को वापस लिया जा सकता है.

10 भारतीय यूनिवर्सिटी की वेबसाइट की थीं हैक
मंगलवार को दिन के वक्त पाकिस्तानी हैकर्स ने भारत की 10 यूनिवर्सिटीज की वेबसाइट हैक की थीं. हैक की गई वेबसाइट्स में आईआईटी दिल्ली, आईआईटी भुवनेश्वर, दिल्ली यूनिवर्सिटी, नेशनल एयरोस्पेस लैबोरैट्रीज और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की वेबसाइट शामिल हैं. हैकर्स ने इन वेबसाइट्स को हैक करके उन पर पाकिस्तान जिंदाबाद लिखा था. इसके अलावा कश्मीर के बारे में भी लिखा गया था. हैक की गई वेबसाइट्स में ज्यादातर आर्मी और डिफेंस से जुड़ी शिक्षण संस्थान शामिल हैं. इन वेबसाइट्स की हैकिंग का दावा पाकिस्तान के PHC ग्रुप ने किया है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को  instantaajtak ने संपादित नहीं किया है, यह aajtakफीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

IIT दिल्ली, DU और AMU की वेबसाइट हैक, लिखा- पाकिस्तान जिंदाबाद

Quote Posted on Updated on

du_hack_1493129963_749x421

मुन्ज़िर अहमद

नई दिल्ली, 25 अप्रैल 2017

दिल्ली यूनिवर्सिटी की वेबसाइट को कथित तौर पर पाकिस्तानी हैकर्स ने हैक कर लिया. हैकर्स खुद को PHC ग्रुप का बता रहे हैं. आपको बता दें कि PHC वही ग्रुप है जिसने पिछले साल भारत की 7100 वेबसाइट को हैक करने का दावा किया था. हालांकि वेबसाइट कुछ देर के लिए ही हैक रही है और खबर लिखे जाने तक यह ठीक से काम कर रही है.

इसके अलावा इस हैकर ग्रुप ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की वेबासाइट को भी हैक करने का दावा किया है. इसके अलावा 10 शिक्षण संस्थानों की वेबसाइट इस ग्रुप ने हैक कर लिया है.

हैकर्स ने आईआईटी दिल्ली की वेबसाइट को भी हैक कर लिया है.

 इन हैकर्स ने एक लिस्ट जारी की है जिसमें भारत की नामचीन शिक्षण संस्थानों की वेबसाइट की लिस्ट है जिसे उन्होंने हैक करने का दावा किया है.

http://www.uok.ac.in
http://zone-h.org/mirror/id/29241418
http://nal.res.in
http://zone-h.org/mirror/id/29241417
http://amu.ac.in
http://zone-h.org/mirror/id/29241416
http://iitbhu.ac.in
http://zone-h.org/mirror/id/29241415
http://iitd.ac.in
http://zone-h.org/mirror/id/29241413
http://du.ac.in
http://zone-h.org/mirror/id/29241411
http://www.aimt.ac.in
http://zone-h.org/mirror/id/29241410
http://diat.ac.in
http://zone-h.org/mirror/id/29241409
http://www.aim.ac.in
http://zone-h.org/mirror/id/29241408
http://brns.res.in
http://zone-h.org/mirror/id/29240869

पिछली बार भी जब इन्होंने हैकिंग का दावा किया था उसके घंटे भर बाद सभी वेबसाइट्स को रिस्टोर कर लिया गया था. हालांकि तब कुछ भारतीय हैकर्स ने भी पाकिस्तान की कई सरकारी वेबसाइट हैक करने का दावा किया था.

गौरतलब है कि DU की वेबसाइट कमजोर है और आप देख सकते हैं कि इसके URL के आगे HTTPS भी नहीं है. साधारण शब्दों में समझ सकते हैं कि बिना HTTPS वाली वेबसाइट सिक्योर नहीं होती हैं.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को  instantaajtak ने संपादित नहीं किया है, यह aajtakफीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

दिल्ली मेट्रो में युवक ने कहा- पाकिस्तान चले जाओ

Quote Posted on Updated on

delhi_metro_1493094137_749x421
aajtak.in [edited by: मोहित ग्रोवर]

नई दिल्ली, 25 अप्रैल 2017, अपडेटेड 09:56 IST

दिल्ली की शान कहे जानी वाली दिल्ली मेट्रो से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि मेट्रो में सफर के दौरान कुछ युवाओं के ग्रुप ने एक मुस्लिम बुजुर्ग व्यक्ति को सीट ना मिलने पर कहा कि जाओ, पाकिस्तान चले जाओ और बुजुर्ग के साथ बदसलूकी भी की. इस दौरान वहां मौजूद कुछ लोगों ने बुजुर्ग की मदद की. साथ ही वहां मौजूद AICCTU के नेशनल सेक्रेटरी संतोष रॉय ने भी मामले को सुलझाने में मदद की.
 

यह मामला महिला अधिकार कार्यकर्ता कविता कृष्णन ने अपने फेसबुक पोस्ट के जरिये शेयर किया. पोस्ट में कविता ने लिखा कि युवाओं ने बुजुर्ग के साथ बदसलूकी की और उनके कपड़ों का भी मजाक उड़ाया. पोस्ट में उन्होंने लिखा कि जब रॉय ने लड़कों से बुजुर्ग से माफी मांगने को कहा कि तो उन्होंने मना किया और कहा कि जाओ, पाकिस्तान चले जाओ.

हालांकि, खान मार्केट मेट्रो स्टेशन के पास गार्ड आया, उसके बाद इस मामले की शिकायत दर्ज की गई. कविता ने अपने पोस्ट में लिखा कि बुजुर्ग ने दोनों युवकों की माफी को कबूल कर लिया है, और आगे से ऐसी गलती ना दोहराने को कहा है.

आपको बता दें कि दिल्ली मेट्रो में कई बार बदसलूकी का मामला सामने आ चुका है. इसके साथ ही कई बार धर्म को लेकर लोगों को निशाना बनाया जा चुका है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को  instantaajtak ने संपादित नहीं किया है, यह aajtakफीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)